पृष्ठ

( 456 )..(4 )..शिव महिम्नः स्तोत्र ..संस्कृत से हिंदी काव्यानुवाद ..डॉ. ओ . पी .व्यास ..सृष्टि ,स्थिति और लय वाला ,अति अद्भुत प्रभु ,रूप अनूप ।.

(456 ).
.          (4).
                      शिव महिम्नः स्तोत्र ...
                                      संस्कृत से हिंदी काव्यानुवाद ..
                                                                      डॉ.ओ.पी.व्यास 
          सृष्टि ,स्थिति और लय वाला 
                                   अति अद्भुत ,प्रभु रूप अनूप ।
            त्रिगुणात्मक ऐश्वर्य युक्त अति ,
                                        एक दूजे से भिन्न स्वरूप ।।
              मूढ़ बुद्धि जन, बुरा या अच्छा ,
                                                    जो चाहें मर्जी  बोलें ।
               समझ ना पाते  तुमको भोले ,
                                                   निज बुद्धि में वे डोलें ।।.
                                                                     .डॉ .ओ.पी.व्यास 
                                                    
           डॉ.ओ.पी.व्यास ,श्रीमती कृष्णा व्यास 
                       बाबा श्री बैज नाथ धाम, ज्योतिर्लिंग , बिहार में पूजा करते हुए |

( 455) ..( 3) ..शिव महिम्नः स्तोत्र.. संस्कृत से हिंदी काव्यानुवाद..सुर ,गुरु, ब्रह्मा की स्तुतियाँ ,मधुर ,परम अमृत वाणी ।..

( 455 ).
            [3 ]
                शिव महिम्नःस्तोत्र ..   श्लोक क्र.(3) .
.सुर, गुरु ,ब्रह्मा की स्तुतियाँ ,
                      मधुर, परम ,अमृत वाणी ।
क्या ? विस्मित कर सकीं देव ,
                      किसने ? तेरी महिमा जानी ।।
कथन गुणों का तेरा करके ,
                                  वाणी प्रभु ,पवित्र करूं ।
हे त्रिपुरारी ! ,हे शिव शंकर ! ,
                              चित्त में तेरा चित्र धरूँ ।।.
.                                                   डॉ .ओ.पी.व्यास 
                               

*************************************************************************************

(454) श्लोक क्रमांक 2 ..2 .शिव महिम्नः स्तोत्र ..वाणी मन से भी परे ,हे नाथ! महीमा आपकी ।डॉ. ओ .पी .व्यास

(454)
           शिव महिम्नः स्तोत्र .
                        श्लोक क्रमांक 2 ..2 .
                                 .काव्यानुवाद 
                                      द्वारा ...डॉ.ओ.पी .व्यास 
                   वाणी मन से भी परे ,
                                 हे नाथ ! महिमा आपकी ।
                     वेद श्रुतियाँ चकित चित,
                                   जानें ना गरिमा आपकी ।।
                कौन? से हैं विषय ,
                                  और हैं कौन? से गुण आपके ,
                  जानते हैं नहीं प्रभु जी ,
                                           क्या? है उपमा आपकी।।
                  दिव्य और चैतन्य लेकिन ,
                                        रूप गुण जो आपके ,
                                               उस भोली सूरत पै भोले ,
                                                                मन रमा है आपकी ।।.
                                                          .                   डॉ. ओ .पी .व्यास

(453)भर्तृहरि नीति शतक..उर्दू काव्यानुवाद (उर्दू तर्जुमा )..समझाईएगा कैंसे उनको उसूल से ।..डॉ. ओ.पी .व्यास गुना म.प्र .भारत वर्ष

(453 ).
.समझाईएगा कैंसे ,उनको उसूल से ।?
                             नादाँ के पास आ गए हैं, आप भूल से ।।
 कोमल कमल की नाल से, हाथी को बांधते ,
                             हीरे को बेधने चले , सरसों के फूल से ।।
मधु विन्दुओं  से मीठा ,सिंधु कर रहे ,
                            करते हैं काम ये ,सब कैंसे ? फ़िजूल से ।।
                                                                          डॉ .ओ.पी.व्यास 
                    

(452 ) ना जाने किस जन्म में होगी फ़िर से भेंट ।इसीलिए मिलते

(452) ना जानें किस जन्म में होगी फ़िर से भेंट ।इसीलिए मिलते रहो छोड़ के अपनी ऐंठ ।।000🎂00000000000000000000000000000000000000000000000000000000000धन्वन्तरि जयंती पर डॉ ओपी व्यास का शाल श्रीफल से सम्मान करते हुए डॉ कृष्ण मुरारी मंगल मंगल ड्रग हाउस गुना मध्यप्रदेश ,पीछे चित्र में डॉ कमल सिंह जी रघुवंशी जी

( 451 )बुरा ना मानो होली है ,राफेल चोर मोदी है

( 451 )  बुरा ना मानो होली है ,सड़क का गुण्डा मोदी है चौकीदार मोदी है  भाँग थोड़ी चढ़ गई है राहुल गाँधी कांग्रेस कहते कभी ना सॉरी हैं आँख मारते ,गले हैं पडते मत भई इनकी भोरी है चढ़ गई भाँग थोरी है बुरा ना मानो होरी है ।अभी तक श्री मोदी जी को विपक्षी 52 अपशब्द गालियाँ दे चुके हैं जिनको श्री मोदी जी कुरुक्षेत्र हरियाणा की चुनावी सभा में दुहरा चुके हैं ।########################################################

( 449 ) बूढ़े बच्चों से करें केवल दो ही आस । दो चार बोल प्यार के ,और खाने को दो ग्रास ।।

(  449 )  बूढ़े बच्चों  से  करें  ,  केवल  दो ही  आस ।   दो  चार  बोल  प्यार के  ,और खाने  को  दो  ग्रास ।।

(447 ) छोड़ दें सारे कपट और दम्भ को ।अपना लीजे आज अमृत कुम्भ को ।।

( 447 )  छोड़ दें सारे कपट और दम्भ को ।अपना लें हम आज अमृत कुम्भ को ।।आ गया पच पन ,गया बच पन कहां ? याद कर लें अपने उस प्रारम्भ को । । दुष्टता त्यागी ना अपनी आज भी ,हिरणा कश्यप प्रकट होंगे,फोड़ देंगे खम्भ को ।।                       

भृतहरि नीति शतक का काव्यानुवाद